Top 20+barish shayari_बारिश शायरी_shayari on barish

barish shayari
Advertisements

barish shayari_बारिश शायरी_shayari on barish-vest love

barish shayari, shayari on barish, barish shayari in hindi, barish ki shayari,

बरिश शायरी,शायरी बारिश पर बारिश शायरी हिंदी में, बरिश की शायरी


barish shayari_बारिश शायरी_shayari on barish-vest love
barish shayari_बारिश शायरी_shayari on barish-vest love
Advertisements

नमस्कार दोस्तों आपका स्वागत है आज मैं आपको बारिश और मोहब्बत के ऊपर शायरी सुनाओ


बारिश शायरी
बारिश शायरी

ह बादल इतना बरस कि नफरत दुल जाए इंसानियत तरस गई है मोहब्बत के सैलाब को बारिश में रख दूं जिंदगी को ताकि धूल जाए पन्नू की शाही जिंदगी को फिर से लिखने का मन करता है कभी-कभी


बारिश से ज्यादा तासीर है यादों में हम अक्सर बंद कमरों में भीग जाते हैं दोस्तों तुम भी बरसो कभी मुझ पर बारिश की तरह मैं भी महकने लगे प्यार से मिट्टी की तरह उदास फिरता है अब मोहल्ले में बारिश का पानी कश्तियां बनाने वाले बच्चे मोबाइल से इश्क कर बैठे


barish shayari, shayari on barish, barish shayari in hindi, barish ki shayari,


shayari on barish

गम की बारिश ने भी तेरे नक्श को धोया नहीं तुमने मुझे खो दिया मैंने तुझे खोया नहीं


कहीं फिसल ना जाऊं तेरी याद में चलते चलते रुक अपनी यादों को हमारी शहर में बारिश का समा है रो लेने से दिल का बोझ हल्का होता है


जैसे बारिश हो जाए तो मौसम अच्छा होता है खूब हौसला बढ़ाया आंधियों ने धूल का मगर दो बूंद बारिश ने औकात बता दी औकात बता दी


barish shayari, shayari on barish, barish shayari in hindi, barish ki shayari,


barish shayari_shayari on barish _Poetry on Rain _Barish 

barish shayari_shayari on barish _Poetry on Rain _Barish
barish shayari_shayari on barish _Poetry on Rain _Barish

यह जो हल्की हल्की बारिश हुई थी आज यह जो हल्की हल्की बारिश हुई थी आज धारा की बादलों से गुजारिश हुई थी आज फिजा ओ नेबी दीया था पाइयो का संत मौसम ने पूरी की ओस की ख़ु आस थी आज मौसम ने पूरी की ओस की ख़ु आस थी आज


इस कदर प्यार की बारिश हो कि जल थल हो जाऊं की बारिश हो कि जल थल हो जाऊं तुम हटा बनकर चले आओ मैं बादल इस कदर प्यार की बारिश बताओ बनकर चले आओ मैं बादल हो जाऊं मैं पागल हो जाऊं



घर में बैठा हूं चमकते हुए सोने की तरह विफल हो जब मैं आ जाऊं तुझको अगर सामने आ जाए तो पागल हो जाए जिसको जिसको सामने आ जाए अगर सामने आ जाओ अगर सामने आ जाए तो पागल हो जाऊं फिर पता है मेरी जान तुम हार का जवाब दूंगा तेरी चाहत पर है मेरी अधूरी मिट्टी मुश्किलों में हिम्मत नहीं होगी


तुम्हारे सामने आ जाओ मेरी मिट्टी तुम तेरा हाथ लगाओ तो तुम मुकम्मल हो जा मेरी अधूरी मिट्टी तुम जरा हाथ लगा दो तुम कमल हो जाओ हाथ लगा दो तुम जरा हाथ लगाओ तो तुम मुकम्मल हो जाओ



barish shayari in hindiआज भीग बैठे उसे पाने की चाहत में _ Barish shayari

barish shayari in hindiआज भीग बैठे उसे पाने की चाहत में _ Barish shayari
barish shayari in hindiआज भीग बैठे उसे पाने की चाहत में _ 

बादल इतना बरस कि नफरत भूल जाए इंसानियत तरस गई है मोहब्बत के सैलाब को आज आई बारिश तो याद आया वो जमाना वह तेरा तत्पर रहना और मेरा सड़कों पर नहाना


आज फिर मौसम नम हुआ मेरी आंखों की तरह शायद बादलों का भी दिल किसी ने तोड़ा होगा


खुद भी रोता है मुझे भी बुला कर जाता है यह बारिश का मौसम उसकी याद दिला कर जाता है यह बारिश यह हसीन मौसम और यह हवाएं लगता है आज मोहब्बत ने किसी का साथ दिया है


जब भी होगी पहली बार तुमको सामने पाएंगे वह बूंदों से भरा चेहरा तुम्हारा हम देख तो पाएंगे


barish shayari, shayari on barish, barish shayari in hindi, barish ki shayari,


किसको खबर थी सांवले बादल बिन बरसे उठ जाते हैं सावन आया लेकिन अपनी किस्मत में बरसात नहीं


barish ki shayari बारिश और मोहब्बत शायरी- बारिश, सावन,-बरसात स्पेशल


बादलों से कह दो बादलों से कह दो जरा सोच समझकर भरसे अगर हमें उनकी याद आई अगर हमें उनकी याद आई तो मुकाबला बराबरी का होगा।


barish shayari, shayari on barish, barish shayari in hindi, barish ki shayari,


हमें क्या पता था हमें क्या पता था हम दिल तो आत्मा को बस हमने तो आत्मा को बस अपनी दास्तां सुनाई है सुना है बहुत बारिश है तुम्हारे शहर में सुना है बहुत बारिश है तुम्हारे शहर में ज्यादा भीगना मत अगर धुल गई सारी गलतफहमियां अगर तूने तो फिर बहुत याद आएंगे


ए बारिश जरा थम के बरस थम के बरस जब मेरा यार आए तो जम के बरस बरस कि वह पहले ना बरस कि वह आ ना सके फिर इतना बरस कि वह आ सके बहुत दिनों से आसमान की शादी बहुत दिनों से थी आसमान की शादी आज पूरी हुई है उनकी बातों को याद करके


barish shayari in hindi, barish ki shayari,


बारिश पर बेहतरीन शायरी -Barish Shayari


जरा बारिश के नजर आने को कितनी दूर से आई है यह रेत से हाथ मिलाने को अब के सावन में यह शरारत मेरे साथ हुई मेरा घर छोड़कर पूरे शहर में बरसात हुई तुम्हारे शहर का बरसात बड़ा सुहाना लगे एक शाम चुरा लूं अगर बुरा ना लगे


हम जागते रहे दुनिया सोती रही एक बार ऐसी थी जो मेरे साथ रोती रही बारिश हुई और भीग गए हम रजनीकांत ने फूंक मारी जोक सुना है बहुत बारिश है तू


तेरी गलियों में कदम नहीं रखेंगे हम आज के बाद तेरी गलियों में कदम नहीं रखेंगे हम आज के बाद क्योंकि कीचड़ हो गया है


बरसात के बाद हमारे शहर आ जाओ ज्यादा बरसात रहती है कभी बादल बरसते हैं कभी आंखें बोलती हैं मेरे शहर का मौसम कितना कुछ गवार हो गया लगा जैसे आसमा को जमी से प्यार हो गया


बरसात की भीगी रातों में फिर कोई सुहानी याद आई कुछ अपना जमाना याद आया कुछ उनकी जवानी याद आई


बारिश का यह मौसम कुछ याद दिलाता है


बारिश का यह मौसम कुछ याद दिलाता है किसी के साथ होने का एहसास दिलाता है फिजा भी सर्द है यादें भी ताजा है यह मौसम किसी का प्यार दिल में जगाता है ए बारिश जरा थम के बरस जब मेरा सनम आ जाए तो जम के बरस पहले ना बरस कि वह आ ना सके जब वह आ जाए तो इतना बरस कि वह जा ना सके


बारिश में हम पानी बनकर बरस जाएंगे पतझड़ में फूल बनकर बिखर जाएंगे क्या हुआ जो हम आपको तंग करते हैं कभी आप इन लम्हों के लिए भी तरस जाएंगे


 shayari on barish, barish shayari in hindi, barish ki shayari,

मौसम है बारिश का और याद तुम्हारी आती है बारिश के हर कतरे से आवाज तुम्हारी आती है


बादल जब गरजते हैं दिल की धड़कन बढ़ जाती है दिल की हर एक धड़कन से आवाज तुम्हारी आती है जब तेज हवाएं चलती है तो जान हमारी जाती है


मौसम है कातिल बारिश का और याद तुम्हारी आती है इस बरसात में


हम भी जाएंगे दिल में तमन्ना के फूल खिल जाएंगे अगर दिल करे मिलने को तो याद करना बरसात बंद कर हम बरस जाएंगे


यह दौलत भी ले लो यह शोहरत भी ले लो भले छीन लो मुझसे मेरी जवानी मगर मुझको लौटा दो वह बचपन का सावन वह कागज की कश्ती वह बारिश का पानी और अंत में मैं इतना ही कहना चाहूंगी दोस्तों मोहब्बत बरसा देना तू सावन आया है तेरे और मेरे मिलने का मौसम आया है सबसे छुपा के तुझे सीने से लगाना है प्यार में तेरे हद से गुजर जाना है


View more barish shayari