Top 100+ gulzar shayari on life, Best Shayari in hindi 2021

Top 100+ gulzar shayari on life, Best Shayari in hindi 2021

gulzar shayari on life,gulzar shayari on life in hindi
shayari of gulzar,hindi love sarry,hindi love sary
hindi loving shayari,
gulzar shayari images,gulzar love shayari

.भाइयों और.हमारी प्यारी बहने, दोस्तों और.सहेलियों, भाइयो.और हमारी.भाभियो, पेश है
.आपके लिए हमारी.तरफ से.दुनिया के.सबसे अच्छे और.बेहतरीन

gulzar shayari on life in hindi
shayari of gulzar
gulzar shayari images,gulzar love shayari

कोई ऐसा इंसान होना चाइये जिस पर मैं चिल्ला सकूं
मैं दिल की भड़ास निकाल सकूं
और उसे फिर से गले लगा कर जी भर के रो सकूं

gulzar shayari on life,
gulzar shayari on life,1

gulzar shayari on life in hindi
shayari of gulzar
gulzar shayari images,gulzar love shayari

खामोस रहते-रहते थक चुका हु
एक औरत अगर किसी मर्द से बात कर रही है तो
जरूरी नहीं कि वह गलत है
ओस का करेक्टर गलत है उसकी भी अपनी जिंदगी है
उसे हक है कि वह जिसे चाहे उससे बात कर सकती

gulzar shayari on life,2
gulzar shayari on life,2

gulzar shayari on life,gulzar shayari on life in hindi
shayari of gulzar
gulzar shayari images,gulzar love shayari

पता नहीं कैसे होट लगा लेते हैं लोग
हमारी तो उनसे नजरें मिल जाए तो भी होश नहीं रहता

बहुत अजीब है यह मोहब्बत करने वाले
.बेवफ़ाई.करो.तो रोते हैं.और वफ़ा करो तो रुलाते हैं

gulzar shayari on life in hindishayari of gulzar,3
shayari of gulzar,3

 in hindi
shayari of gulzar
gulzar shayari images,gulzar love shayari

न जानू तुम बेवफाई की हर हमसे इश्क सीख दी रही
किसी और के लिए ने पूछा क्या सजा दूं उस बेवफा को
कहा मोहब्बत हो जाए उसे भी जाते जाते उसके आखरी अल्फाज यहीं थे

gulzar shayari on life, Best Shayari in hindi 2021

gulzar shayari on life,4

हजार बार भी रूठे तो मना लूंगा
.देख.मोहब्बत में.शामिल कोई.दूसरा.ना हो

.क्या खूब.क़त्ल का.तरीका.तूने.इजाद किया
जाऊं हिचकी उसे ही इस कदर तूने याद किया हो घा

shayari gulzar

अपनी जुल्फों को चेहरे पर यूं ही
यह चांद बादलों में कमाल लगता है

किसी ने सच ही कहा था इश्क वो दर्द है
जो रोने से पहले सोने नहीं देता

gulzar shayari on life in hindishayari of gulzar

.कर.रही है.यह तरसी.हुई.निगाहे हुए.किसी को
जमाना गुजर ने से ज्यादा तुझे और कितना करीब लाऊं मैं

.तुझे दि. में .खकर भी.मेरा.दिल नहीं भरता

हम रिश्ते के लिए वक्त नहीं निकाल पाते वह
तुझे वक्त हमारे बीच से रिश्ते ही निकाल देता है

shayari of gulzar

नीचे दबा दबा कर रखे हैं तुम्हारे ख्याल
तस्वीर बेपनाह इश्क

तेरे इंतजार की उम्र बहुत लंबी है
खुदा करे इस उम्र की उम्र भी तुम्हारे लग जाए

shayari of gulzar

कुछ जिम्मेदारियां है जो अदा करनी है
मुझे अपने मां बाप से वफा करनी है

.कोई.अजीब.बात .तो .नहीं.चमकता सूरज भी तो ढल जाता है
जान के लिए प्यार आपको छोड़कर जा चुका है
लेकिन आप अभी उसकी याद में तड़प रहे हो

Best Shayari in hindi 2021

gulzar shayari on life
shayari of gulzar
gulzar shayari images,gulzar love shayari

रो रहे हो तो यह सच्चा प्यार ही नहीं
बल्कि यह आपका उसके प्रति लगाव है
जो आपको तड़पाता है
और आपको किसी और का होने भी ना देता

.कौन कहता है.दिल दो नहीं होते पति की
.दहलीज़ पर बैठी बाप .की बेटी से पूछो.

gulzar shayari on life in hindishayari of gulzar

.किसी से रोज मिलने से. प्यार हो या ना हो
.लेकिन किसी से.रोज बातें करने से
.उसकी आदत जरूर हो.जाती है.

.ऐसा नहीं है.कि दिन नहीं.ढलता या .रात नहीं होती सब
.अधूरा.अधूरा सा.लगता.है.जब.तुमसे बात नहीं होती.

gulzar shayari on life in hindishayari of gulzar

.दूरियों का.गम नहीं.अगर.फ़ासले दिल में न हो
.नजदीकियां बेकार.है.अगर जगह.दिल में ना हो

.जरूरी नहीं.हर चाहत का मतलब इश्क़ ही. हो कभी कभी
.कुछ.अनजान.रिश्तों के.लिए.भी.दिल.बेचै. हो जाता है

.नींद से.क्या शिकवा जो आती .नही रात भर
.कसूर तो उन.सपनों का है जो.सोने नहीं देते.

gulzar shayari on life in hindishayari of gulzar

.तेरी आदत सी हो.गई थी हमें नहीं तो
.मालूम तो हमें.भी था कि .तू नसीब में नहीं है.

.आ लिख दूँ.कुछ तेरे बारे में .मुझे पता है
.कि तू रोज़.ढूँढ़ती है खुद .को.मेरे अल्फाज़ों में

gulzar shayari on life in hindishayari of gulzar

.नींद से. क्या शिकवा जो आती नही रात
.भर कसूर तो.उन सपनों का है.जो सोने नहीं देते

.तुझसे.नाराज होकर तुझसे ही. बात करने का मन ये
.दिल का.सिलसिला भी कभी .ना समझ पाए हम

gulzar shayari on life in hindishayari of gulzar

.सोचो कितनी.खूबसूरत हो जाएगी ये.जिंदगी जब
.दोस्त .मोहब्बत और हमसफ़र.तीनों एक ही इंसान बने.

.गलतियां .भी.होगी.और.गलत.भी.समझा जाएगा यह जिंदगी है
.जनाब यहां.तारीफें भी होगी .और कोसा भी जाएगा

gulzar shayari on life in hindishayari of gulzar

.बितानी.तो एक उम्र है
.तेरे.बिना और.गुजरता तो .एक लम्हा भी नहीं.

.आप किसी.इंसान का.दिल बस तब तक दुखा सकते हो
.जब तक.वो इंसान.आपको प्रेम करता है.

.फिर वही.शिकायतें शर्ते और इतनी
पाबन्दी जनाब इश्क करते हो या एहसान

तू.आए और.लिपट जाए.मुझसे उफ्फ़ ये मेरे
.महँगे.महँगे ख़्वाब

Best Shayari in hindi,hindi love sarry,hindi love sary

gulzar shayari on life,gulzar shayari on life in hindi
shayari of gulzar
gulzar shayari images,gulzar love shayari
.मोहब्बत तो
.छोटा सा.शब्द है,
.मेरी तो.जान बसती है
.आप मैं.

.इश्क़ की.अपनी बचकानी
.ज़िद.होती है,
.चुप.करवाने के लिए भी
.वाही.चाहिए
.जो.रुला कर गया है.

gulzar shayari on life in hindi
shayari of gulzar

.ज़िन्दगी.मे कुछ लोग
.ऐसे.भी होते है,
.जो.वादे .नहीं करते लेकिन
.निभा.बहुत कुछ जाते है

gulzar shayari on life in hindishayari of gulzar

.ना.थी कभी.मेरी तमन्ना
.तेरे.बगैर रहने की,
.लेकिन.मजबूर.को मजबूर की
.मजबूरिया.मजबूर कर देती है.

.बहुत.महंगा हो गया है
.इश्क़. आज.कल जनाब,
.अब.उसे पहली मुलाक़ात मई
.दिल.नहीं.तोह्फ़े चाहिए

gulzar shayari on life in hindishayari of gulzar

.अगर.कोई जोर.देकर पूछेगा
.हमारी.मोहब्बत की कहानी,
.तो.हम भी धीरे.से कहेंगे
.मुलाक़ात.को तरस गए.

gulzar shayari on life in hindi
shayari of gulzar

.होने तो.दो ज़रा उनको
भी.तनहा,
.फिर. देखना याद हम भी
.उन्हें.बेहिसाब.आएंगे.

gulzar shayari on life in hindishayari of gulzar

.कभी.कभी.पहली नजर
.कुछ.ऐसे रिश्ते बना लेती है,
.जो .आखरी सांस तक
.छुड़ाने.से नहीं छूटते.

.किसी के.प्यार.को पा लेना ही
.मोहब्बत.नहीं होती है,
.किसी के.दूर रहता पर पल पल
.उसको.याद करना भी
.मोहब्बत.होती है

gulzar shayari on life in hindi
shayari of gulzar

.मोहब्बत.है.तुमसे
.इसलिए.खूबसूरत लगती हो,
.खूबसूरत.हो इसलिए
.मोहब्बत. नहीं है.

.सच्चा.प्यार कपडे से
.तन.को .ढकता है,
.और. झूठा.प्यार कहता है
.कपडे. उतरो.अगर मोहब्बत है तो.

gulzar shayari on life in hindi
shayari of gulzar

.मोहब्बत. दिल.मैं कुछ
.ऐसी.होनी.चाहिए,
.की.हासील. भले दुसरे को हो
.पर.कमी.उसको ज़िन्दगी भर
.हमारी.होनी चाहिए.

Hindi Shayari Gulzar

Advertisements

TOP 20 +,shayari gulzar,Gulzar poetry-शायरी गुलज़ार

shayari gulzar,

shayari gulzar,Gulzar poetry-शायरी गुलज़ार

साया था आंखों में आया था हमने दो बूंदों से मन भर लिया बार बार तो यूं होगा और थोड़ा सा सुकून होगा एक बार तो यूं होगा और थोड़ा सा सुकून होगा

shayari gulzar,

आतें हैं वक्त के साथ जाती है युवक वक्त के कोई गैर हो जाता है भर किसी को अपना समझना वही लड़की किसी लड़के को चाह कर भी नहीं भूल पाते इसका सीधा मतलब यह हुआ कि ना कहीं वह लड़का भी अपने दिमाग से नहीं निकाल पा रहा है साथ सोने से पहले जो जरूर सोच आज तक की साथ क्योंकि में सबसे अच्छी रहने की दो जगह दिल में रहो फिर दुआओं में

shayari gulzar,

एक ऐसा रिश्ता हुआ इसमें वफा का भला एक ऐसा रिश्ता हुआ इसमें वफा का भला तमाम उम्र में 246 की हाथ टूटे भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते वक्त के साथ लम्हे नहीं तोड़ा करते

shayari gulzar,Gulzar poetry

shayari gulzar,Gulzar poetry-शायरी गुलज़ार
shayari gulzar,Gulzar poetry-शायरी गुलज़ार
ना दिल में कसक ना सर में जुनून होगा ता पने के सपने के टूट कर चकनाचूर हो जाने के बाद एक सपने के टूट कर चकनाचूर हो जाने के बाद दूसरा सपना देखने के हौसले का नाम जिंदगी है
कल का हलवा किया तुम्हारा था कल का हलवा किया तुम्हारा था आज की दास्तां हमारी है अपने साए से चौक जाते हैं हम अपने साए से छूट जाते हैं उम्र गुजारी है इस कदर तन्हा तो तेरे इश्क की छांव में जल जल कर मैं तेरे इश्क की छांव में जल जल कर काला ना पड़ जाऊं कहीं तू मुझे.हुस्न. की धूप. का. एक टुकड़ा एक

shayari gulzar,

तुझसे अब कुछ नहीं मांगता है कर के ले ने की आदत तेरी मंजूर नहीं है हालातों ने खोदी इस चेहरे की मुस्कान जहां भी जाते थे ला दिया करते .थे बेहद..लाचारी का आलम .था उस. वक्त. साहब. जब मालूम हुआ कि.. मैं मुलाकात आखरी है
झुक. जाते हैं जो लोग .आप की. खातिर किसी भी .हद तक वह सिर्फ. आपकी इज्जत ही नहीं ब्बल मोहब्बत भी करते हैं .मर्दानगी. औरत की .इज्जत लूटने. में नहीं बचाने. में है
हमदर्दी ना करो हमसे द्ध बढ़ हमदर्द है हजार खुशियां छीन वो कहते हैं

Gulzar poetry

फिर से लिखने का मन होता. है कभी-कभी अजीब सा सुकून होता है उस नींद में बुरी तरह से रोने के बाद आती है अल्फाज. अक्सर अधूरी ही रह जाते हैं .मोहब्बत में हर. शख्स किसी. ना .किसी. की चाहत .दिल में. दबाए. रखता है
संभल कर.. चलना दान यह इंसानों की बस्ती तो . रब को भी .आजमा लेते हैं
तेरी क्या हस्ती है पहन ले फिर दे उसे उतार हेलमेट सा हो गया है लोगों का किरदार फेर दो इन पन्नों पर ताकि धुल जाए स्याही सारी द गी
फिर से लिखने का मन होता है कभी-कभी अजीब सा सुकून होता है उस नींद में बुरी तरह से रोने के बाद आती है अल्फाज अक्सर अधूरी ही रह जाते.. हैं मोहब्बत में हर .शख्स किसी ना .किसी की चाहत दिल में दबाए रखता है

shayari gulzar,

बादशाह किसी की यादों में बर्बाद हो गए एक फूल खुशबू से आजाद हो गए महकते हुए फूल खुशबू से आजाद हो गए
जब जिंदगी बार बार मौका दे तो गलतियों को दोहराने की गलति कभी मत कीजी जिम्मेदारियों का जहैमुझ है मुझ पर रूठने और टूटने का हक नहीं है

shayari gulzar,

मोहब्बत तो हैमेसा इंक एक तारफा जो टोनो तरफ़ा से हओसे नसीप कहते हे

किसी ने कहा था मोहब्बत फूल जैसी है कदम  रुक गए आज जब फूलों को बाजार में बिकते देखा मोहब्बत की आज तक बस दो ही बातें अधूरी रही

शायरी गुलज़ार

मैं तुझे पाना पाया दूसरी तुम समझ ना पाए

 

इश्क   चोट का कुछ दिल पर असर हो तो सही दर्द कम हो या ज्यादा तो हो सही धोखा.देने वाले.को.मैं दुबारा मौका.नहीं देता

shayari gulzar,

अभी.तक मौजूद.है. इस दिल पर तेरे कदमों.के निसान.हमने .तेरे बाद किसी.को इस.राह से गुजरने नहीं दिया कोई  नहीं आएगा मेरी  जिंदगी में तुम्हारे सिवा एक .मौत .ही है जिसका .मैं वादा .नहीं करता
सपने तो बहुत आए तुम सा कोई सपनों में ना आया फिजा में फूल तो बहुत खिले तुम सब भूल ना मुस्कुराया क्या कशिश थी उसकी आखो में
मत पूछो मुझसे  मेरा दिल लड़ पड़ा मुझे यही चाहिए तुम  रख ना सकोगे मेरा तोहफा संभालकर वरना मैं अभी दे दूं जिस्म से रूह निकालकर जिस  घाव से खून नहीं निकलता समाज  लेना वह जख्म किसी अपनों ने ही दिया है

shayari gulzar,

नींद में भी. गिरते है मेरी आंख से आंसू नींद. में भी .गिरते हैं .मेरी आंख. से आंसू जब भी तुम ख्वाबों में हाथ छोड़ देती हो

 

मेरी खुशियों की हाथ फैला कर  द्धआ ना कर ये  मेरा दर्द ही हुनर है मेरा इसकी  दोप नकारो

 

दुपट्टे पर पहरे  कीजगे  दरिंदगी  देखने लगी है तब से बाप को बेटी के शादी का नहीं बालकर का भय होने लगा है

shayari gulzar,

बो सफर बचपन के अब तक याद आते हैं मुझे सोबा जाना हो कहीं तो रात   भर सोते नहीं थे  लब्ज  तो खामोश हो गए हैं तुम  से बात कर ते करते

READ MORE  Hindi Shayari Gulzar

Advertisements