gulzar shayari,part2_Best shayari in hindi_poetry

Spread the love
  • 1
    Share

gulzar shayari part2_Best shayari in hindi_poetry

Hindi Shayari Gulzar,

Gulzar in hindi,

मोहब्बत में भरोसा होना चाहिए सत्तू पूरी दुनिया करती है

 

अगर आप पर कोई मरता है तो कोशिश करो कि वह जिंदा रहे उनकी अपनी मर्जी हो तो वह बात करते हैं,gulzar shayari

 

और हमारा पागलपन देखिए हम पूरा दिन उनकी मर्जी का इंतजार करते हैं आज परेशान हूं कल सुकून भी आएगा खुदा तो मेरा भी है कब तक रुलाएगा नाराज तो नहीं हूं तुम्हारे जाने से मगर हैरान हूं कि तुमने मुड़कर भी नहीं देखा,Gulzar in hindi,shayari in hindi

 

काश आसुओं के साथ यादें भी बह जाती तो 1 दिन सुकून से बैठ करो रोज रात को मत आया करो सपनों में नींद खुलते ही कोई से नफरत हो जाती है,gulzar shayari,shayari in hindi

 

हम किसी की जिंदगी में तभी तक खास है जब तक उन्हें कोई और नहीं मिल जाता जज्बातों का जमाना चला गया साहब अब तो जो सौदा करने में माहिर है वही खुश रहता है,Hindi Shayari Gulzar, shayari in hindi

 

अक्सर लोग रोते नहीं हैं जनाब वह तो जब अंदर से दिल टूटता है और जुबान से कुछ निकल नहीं पाता,Gulzar in hindi,

 

तो बस यह आंखें ही सहारा होती है और यह बरस पड़ती है

gulzar shayari,part2_Best shayari in hindi_poetry in Hindi

सवाल यह नहीं की रफ्तार किसकी कितनी है सवाल तो यह है कि तरीके से कौन चलता है जिंदगी की थकान में,gulzar shayari,shayari in hindi

 

गुम हो गए वह लोग जिन्हें हम कभी सुकून कहा करते थे,Gulzar in hindi,

 

यूं ही नहीं होती साहब जनाजे में भी है हर शख्स अच्छा तो लगता है लेकिन मर जाने के बाद,Hindi Shayari Gulzar, shayari in hindi

 

यहां हर कोई रखता है खबर गैरों के गुनाहों के अजीब फितरत यह है की खुदाई ना कोई देखता ही नहीं तुम बस थामी रहना मेरा हाथ उम्र भर

 

मैं कभी नहीं पूछूंगा कि जाना कहां है,gulzar shayari,shayari in hindi

 

जब नफरत करने वाले लोग भी प्यार से बात करने लगे तो समझ जाना कि उनके मतलब के दिन आने वाले हैं,Gulzar in hindi,

Hindi Shayari Gulzar 

तेरी सिर्फ एक निगाह ने खरीद लिया हमें बड़ा गुमान था हमें की हम बिकते नहीं अल्फाजों के दीवाने दो बहुत मिलेंगे दोस्त तलाश उसकी करना जो हम उसे पढ़ ले,gulzar shayari

 

कभी फुर्सत मिले तो इतना जरूर बताना वह कौन सी मोहब्बत थी जो हम तुम्हें दे ना सके,Hindi Shayari Gulzar,

 

मैंने जब भी उनसे जाने की इजाजत मांगी उन्होंने जुबान से यह कहकर निगाहों से रोक दिया,Gulzar in hindi,shayari in hindi

 

जब जान प्यारी थी तब दुश्मन हज़ारों थे अब मरने का शौक हुआ तो एक कातिल ना मिला,gulzar shayari

 

एक घुटन सी रहती है दिल में हमेशा जब कोई दिल में रहता है बरसात नहीं जब इंसान छोटी-छोटी बातों पर रोने लगे तो समझ जाना कि इंसान अंदर से टूट रहा है मजबूत बनने की कोशिश में है

Gulzar in hindi

अच्छा किया तुमने मुझे गलत समझ कर मैं भी थक गया था खुद को सही साबित करते करते हैं,Hindi Shayari Gulzar,

 

जिंदगी की राह में मिलेंगे तुम्हें हजारों हमसफर लेकिन उम्र भर भूल ना पाऊं जिसे वह मुलाकात हूं मैं,Gulzar in hindi,shayari in hindi

 

ताक में दुश्मन दिए थे और मेरे अजीज भी लेकिन पहला तीर किसने मारा यह कहानी फिर कभी जब कोई गुस्से में कहता है मुझे तुम्हारी जरूरत नहीं तो समझ जाना कि उस वक्त उसे आपके प्यार की सख्त जरूरत है,gulzar shayari

 

अभी तो बस चंद लफ्जों में समेटा है तुम्हें अभी तो मेरी किताबों में है तेरा सफर बाकी है