Top 01+,Suhaag raat,सुहाग रात-पति पत्नी की प्रथम मिलन रात

Spread the love

Suhaag raat,सुहाग रात-पति पत्नी की प्रथम मिलन रात

सुहागरात कैसी थी वो रात कुछ कह सकता नहीं मैं कैसे थी वो रात कुछ कह सकता नहीं मैं कहना तो बयां कर सकता नहीं मैं दुल्हन बनकर मेरी जब वह

[the_ad_placement id=”add1″]मेरी बाहों में आई थी दुल्हन बनकर मेरी जब वह मेरी बाहों में आई थी सजी थी फूलों की पर पूरी रात उसने में एक चांद सा और सिर्फ तन्हाई थी

Suhaag raat,

suhagraat kaisi thi bo rat kuchh kah sakta nahin main kaisi thi bo raat kuchh kah sakta nahin main kahana to bayaan kar sakta

nahin main dulhan bankar meri jab boh meri baahon mein Aayi thi dulhan bankar meri jab meri baahon mein Aayi thi saji thi fhulon mai par puri raat usne mein ek chaand sa aur sirph tanhayi thi

Suhaag raat,
Suhaag raat,

आवाज दिल की धड़कने की दूर से आई थी सेजो मैंने घूंघट चांद पर से हटाया था प्यार से जो मैंने घूंघट चांद पर से हटाया था प्यार का रंग भी उतर कर उसके चेहरे पर आया था बाहों में लेकर उसको फिर लबों की लाली चुराई थी उस सर्द रात में से भी सोते भी सुला बंद कराई थी बिन जी ना पाए बिंदी कंगना पायल ने शोर मचाया था

Suhaag raat,

Aabaj dil ki dhadkano ki dur se Aayi thi sanjo mainne ghunghat chaand par se hataaya tha pyaar se jo mahine mainne ghunghat chaand par se hataaya tha pyaar ka rang bhi utar kar uske

chehare par Aaya tha baahon mein lekar usko phir labon ki laali churayi thi us sard raat mein se bhi sote bhi sula band karayi thi bin ji na paye bindi kangana paayal ne shor machaaya tha

Suhaag raat,सुहाग रात-पति पत्नी की प्रथम मिलन रात

Suhaag raat
Suhaag raat

जब उसके सुख बदन को मैंने हाथ लगाया था भूल गए थे हम दोनों शक्ति प्यार की आग में डूब गए थे हम दोनों शक्ति प्यार की आग में तोड़ दिया था हमने कलियों को प्यार के बाग में अब हम क्या बताएं अब हम रात किस कदर निकाली थी हमारे सुहाग की रात जो इतनी सुख सुख मतवाली थी कैसी थी वो रात कुछ कह सकता नहीं मैं

Suhaag raat,

jab usake sukh badan ko mainne haath lagaya tha bhool gaye the ham donon shakti pyaar ki Aag mein doob gaye the ham donon shakti pyaar ki Aag mein tod diya tha hamne kaliyon ko

pyaar ke baag mein ab ham kya batayen ab ham raat kis kadar nikaali thi hamaare suhaag ki raat jo itani sukh matlaabi thi kaisi thi bo raat kuchh kah sakta nahin main

अंत में मैं अपने प्यार के लिए कहना चाहूंगा मैं अदना सा एक शायर तेरे हुस्न की क्या तारीफ करूं मैं अदना सा एक शायर तेरे हुस्न की क्या तारीफ करूं तेरे लिए जीता हूं और अब करें तेरे लिए धन्यवाद

Suhaag raat,

ant mein Apne pyaar ke liye kahna chaahunga main adna sa ek shaayar tere husn ki kya taarifh karun main adna sa ek shaayar tere husn ki kya taarifh karun tere liye jita hun aur ab karen tere liye

read more sexy shayri, suhag Raat

Advertisements

Leave a Comment