TOP64+,mirza ghalib shayari,best hindi shayari 2020

Spread the love
  • 2
    Shares

mirza ghalib shayari,best hindi shayari 2020

आस्था तो मैं रोज हूं मगर खुश हुए जमाना हो गया इत्तेफाक से ही सही सबने दिखाएं चेहरे सब ने बदले हैं सामने सबके आए कैसे कह दूं कि बदले में कुछ ना मिला तब आप कोई छोटी चीज तो नहीं

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

जी लो हर लम्हा बीत जाने से पहले लौट कर सिर्फ यादे आती है वक्त नहीं

jee lo har lamha bit jaane se pahale
laut kar sirph yaade aati hai vakt nahin

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

दर्द मिन्नत कश्मीर दवा ना हुआ मैं ना अच्छा हुआ बुरा ना हुआ ना रूठने का डर है ना मनाने की कोशिश

dard minnat kashmir dava na hua main na achchha hua bura na Hua n rootha ne ka dar hai
Na Manane ki Koshish

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

दिल तो अक्सर एक-दूसरे से भी जाया करते हैं अपनों ने ही सिखाया है वाले ने यहां कोई अपना नहीं है

dil to aksar ek-doosare se bhi jaaya karte hain apnon ne hi sikhaya hai
vaale ne yahan koi apna nahin hai

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

सुकून की तलाश में हूं वाले ख्वाहिशें कब तक पूरी नहीं होती नाराजगी भी खूब स्टाइल वाले आदमी दिल और दिमाग दोनों में रहता है

sukon ki talash mein hon vale khvahishen kab tak pori
nahin hoti narajagi bhi khoob stail vaale aadami dil
aur dimaag donon mein rahata hai

mirza ghalib shayari,best hindi shayari 2020

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

जो मौत से ना डरता था वह बच्चों से डर गया एक रात खाली हाथ जब मजदूर घर गया

कई रिश्तो को परखा मगर नतीजा एक ही निकला जरूरत ही सब कुछ है मोहब्बत कुछ भी नहीं

jo maut se na darta tha vah bachchon se dar gaya ek rat khali haath jab majadoor ghar gaya

kaye rishto ko parakh magar natija ek hi nikala jarorat hi sab kuchh hai mohabbat kuchh bhi nahin

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

 

यह चंद दिन की दुनिया है गालिब यहां पलकों पर बिठाया जाता है नजरों से गिराने के लिए जिंदगी उसी की है जिसकी मौत पर जमाना अफसोस करें

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

हैरान हूं तुझे मस्जिद में देखकर वाले ऐसा भी क्या होगा जो खुदा याद आ गया मुस्कान बनाए रखो तो सब साथ है ग़ालिब वरना आंसुओं को तो आंखों में भी मना नहीं मिलती

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

लोग बेताब थे मिलने को मंदिर के पुजारी से हम दुआ लेकर आ गए बाहर बैठे भीकारी से कल सूरज से एक ही बात थी कि मैंने अगर बीच में कोई आ जाए तो ग्रहण लग ही जाता है

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

यह सब पैर फिसला इल्जाम उसी चप्पल पर लगाया सब ने महीनों तक की जमीन और कांटों से बचाया जिसने कौन कहता है कि वक्त बहुत तेज हैं

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

कभी किसी का इंतजार तो कर के देखो इश्क अधूरा रह जाए तो नाश करना सच्चा प्यार मुकम्मल नहीं होता हमारा होना भी फिर किस काम का है

best hindi shayari 2020

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

जब हमारे ना होने से किसी को कोई फर्क ना पड़े उठाकर कफन चेहरा मत दिखाना मैं  उससे भी तो पता चले कि जार का दीदार ना हो तो कैसा लगता है

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

दुनिया में बेहतरीन इंसान वही है जो रूठ जाने पर भी एक छोटी सी मुस्कुराहट श्रीमान चाहिए उसके साथ रिश्ता अजीब सा है

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

दर्द कोई भी हो याद उसी की आती है हंस-हंस कर जलाया करो उनको जिनको लगता है तुम उनके बिना रह नहीं सकती

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

एक आखरी मुलाकात को बुलाया था उसने मैंने ना जाकर उस मुलाकात को बचा कर रख दिया

mirza ghalib shayari,2020 Best Shayari I Mirza ghalib

mirza ghalib shayari,2020
mirza ghalib shayari,2020

कितना फर्क होता है शाम के अंधेरों में गाली पूछ उन परिंदों से जिनके घर नहीं होते मुझसे कहती है साथ रहूंगी सदा गाली बहुत प्यार करती है

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

मुझसे उदासी मेरे मेरे बारे में कोई राय मत बनाना गाली मेरा वक्त भी बदलेगा और तेरी राय खैरात में मिली खुशी मुझे अच्छी नहीं लगती

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

ग़ालिब मैं अपने दुखों में रहता हूं नवाबों की तरह हाथों की लकीरों पर मत जा ऐ ग़ालिब नसीब उनके भी होते हैं जिनके हाथ नहीं होते

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

बेवजह नहीं रोता इश्क में कोई गाली जिसे खुद से बढ़कर चाहो और रुलाता जरूर है मैं नादान था जो वफा को तलाश करता रहा गाली यह न सोचा कि एक दिन अपनी सास भी बेवफा हो जाएगी

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

मुसाफिर कल भी था मैं मुसाफिर आज भी हूं कल अपनों की तलाश में था आज अपनी तलाश में हूं

Mirza Galib_Top ten shairy

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

तोड़कर जोड़ ले हर चीज दुनिया की सब कुछ काबिल है मरम्मत है एतबार के सिवा आंखों से दूर दिल के करीब था मैं उसका और वह मेरा नसीब था

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

न कभी मिला न जुदा हुआ रिश्ता हम दोनों का कितना अजीब था पहले सड़क कश्ती से उतरने वाले जमीन अक्सर किनारे से ही

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

सकती है तमाशा देख रहे थे जो मेरे डूबने का अब मेरी तलाश में निकले हैं कश्तियां लेकर राहों में कौन आया गया कुछ पता नहीं उसको तलाश रहे हैं जो मिला नहीं

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

मैं चुप रहा तो गलतफहमियां बड़ी उसने वह भी सुना है जो मैंने कहा आंखों में रहा दिल में उतर कर नहीं देखा कश्ती के मुसाफिर ने समंदर नहीं देखा पत्थर मुझे कहता है मेरा चाहने वाल कोई बताओ जरा उसे मॉम हूं मैं उसने मुझे छू कर नहीं देखा

mirza ghalib shayari,
mirza ghalib shayari,

कभी-कभी तो झलक पड़ती हैं यूं ही आंखें उदास होने का कोई सबक नहीं होता खुशबू की तरह आया तेज हवाओं में मांगा था जिसे हमने दिन-रात दुआओं में तुम नहीं आए मैं घर से नहीं निकला चांद बहुत रोया सावन की घटा हूं मैं

 Mirza ghalib shayari 

बस के दुश्वार है हर काम का सोना बस की दुश्वार है हर काम का ना होना आदमी को भी मयस्सर नहीं इंसान होना राज्य से होकर हुआ इंसान तो मिट जाता है

 

ना था कुछ तो खुदा था कुछ ना होता तो खुदा होता ना था कुछ तो खुदा था कुछ ना होता तो खुदा होता

 

यह ना थी हमारी क़िस्मत के विसाले यार होता यह ना थी हमारी क़िस्मत के विसाले यार होता अगर और जीते रहते यही इंतजार होता

 

हजारों ख्वाहिशें ऐसी कि हर ख्वाहिश पे दम निकले हजारों ख्वाहिशें ऐसी कि हर ख्वाहिश पे दम निकले बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले

 

उनके देखे से जो आ जाती है मुंह पर रौनक उनके देखे से जो आ जाती है मुंह पर रौनक वह समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है

 

हमको मालूम है जन्नत की हकीकत लेकिन हमको मालूम है जन्नत की हकीकत लेकिन दिल के खुश रहने को गालिब ये ख्याल अच्छा है

 

किसी ने हमसे पूछा कैसे हो हम ने हंसकर कहा जिंदगी में गम है गम में दर्द है दर्द में मज़ा है और मज़े में हम हैं

वो रात दर्द और सितम की रात होगी जिस रात रुखसत उनकी बारात होगी

उठ जाता हूं मैं इस सोचकर नींद से अक्सर की एक गैर की बाहों में मेरी सारी कायनात होगी 

ghalib shayari

Advertisements

Leave a Comment