desh bhakti shayari hindi me,2020 Latest देश भक्ति

desh bhakti shayari hindi me

desh bhakti shayari hindi me,2020 Latest देश भक्ति शायरी

कुछ नशा यह तिरंगे की आन का है कुछ नशा मातृभूमि की शान का है कुछ नशा तिरंगे की आन का है कुछ नशा मातृभूमि की शान

का है हम लहराएंगे हर जगह तिरंगा हम लहराएंगे हर जगह यह तिरंगा नशा यह हिंदुस्तान की शान का है नशा यह हिंदुस्तान की शान का है

 

खुशनसीब है वो लोग जो वतन पर मिट जाते हैं मर कर भी वह लोग अमर हो जाते हैं खुशनसीब है वो लोग जो वतन पर मिट जाते हैं मर कर भी वो लोग अमर हो जाते हैं करता हूं तुम्हें सलाम

ए वतन पर मिटने वालों करता हूं तुम्हें सलाम ऐ वतन पर मिटने वालों तुम्हारी हर सांस में तिरंगे का नसीब बसता है तुम्हारी हर सांस में तिरंगे का नसीब बसता है,desh bhakti shayari hindi me

 

गूंज रहा है दुनिया में भारत का नगाड़ा चमक रहा आसमान में देश का सितारा गूंज रहा है दुनिया में भारत का नगाड़ा चमक रहा है आसमान में देश का सितारा आजादी के दिन आओ मिलकर करें

दुआ आजादी के दिन आओ मिलकर करें दुआ के बुलंदी पर लहराता रहे तिरंगा हमारा बुलंदी पर लहराता रहे तिरंगा

desh bhakti shayari hindi me,2020 Latest,

हमारा मुझे ना तन चाहिए ना धन चाहिए बस अमन से भरा यह वतन चाहिए मुझे ना तन चाहिए ना धन चाहिए बस अमन से भरा यह वतन चाहिए,desh bhakti shayari hindi me

 

जब तक जिंदा रहूं इस मातृभूमि के लिए और जब मारु तो तिरंगा कफ़न चाहिए और जब मारु तो तिरंगा कफ़न चाहिए

ऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा यह शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है

प्राण गवाएं पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गंवाए कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के घर ना आए जो लौट के घर ना आए

 

खून से खेलेंगे होली गर वतन मुश्किल में है खून से खेलेंगे होली गर वतन मुश्किल में है सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है अब हमारे दिल में है,desh bhakti shayari hindi me

 

लिख रहा हूं मैं अंजाम जिसका कल आगाज आएगा मेरे लहू का हर एक कतरा इंकलाब लाएगा लिख रहा हूं मैं अंजाम जिसका कल आगाज आएगा मेरे लहू का हर एक कतरा इंकलाब लाएगा,desh bhakti shayari hindi me

 

मैं रहूं या ना रहूं यह वादा है तुमसे मेरा मैं रहूं या ना रहूं यह वादा है तुमसे मेरा मेरे बाद वतन पर मिटने वालों का सैलाब आएगा मेरे बाद वतन पर मिटने वालों का सैलाब आएगा

Advertisements

Top 100+desh bhakti shayari,देशभक्ति शायरी हिंदी में

desh bhakti shayari,

Top 100+desh bhakti shayari,देशभक्ति शायरी हिंदी में

लंच भी गुलाम है गुलाम है हम पर भी लगाम लफ्ज़ भी गुलाम है कलम पर भी लगाम है लगता है आजादी के मायने से अभी अनजान है लगता है आजादी के मायने से अभी अनजान है जो तू धरा बहुत महान है जो तो यह बहुत महान है इसकी मिट्टी में भगत सिंह का नाम इसकी मिट्टी भगत सिंह का नाम है

 

लाखों वीरों ने लागू वीरों ने इसमें अपना रक्त मिलाया है लाखों वीरों ने अपना रक्त मिलाया है तब जाकर आजादी का रंग पाया

गांधी के उद्देश्य गांधी के उद्देश्य है खुद का संज्ञान जहां है गांधी के उपदेश यहां है खुद का परम ज्ञान यहां है,desh bhakti shayari,

desh bhakti shayari
desh bhakti shayari

पर जाने कैसे हैं लूट रहे अगला कहां पर जाने कैसे लूट रहा एक अपना सामान है भगत सिंह शायद हमने तस्वीरों में से निकली भगत सिंह को फांसी तस्वीरों में कैद कर दिया साक्षी को किताबों के नाम कर दी नाम कर दिया

Top 100+desh bhakti shayari,देशभक्ति शायरी

देर शाम का है पर इतनी लामकान काहे पर चरित्र नीलाम कर दिया,,desh bhakti shayari,

जुम्मा टीकाकरण का देखो अपना फर्ज निभा पार्टी का कर्ज चुकाने को अपना भारत मां के वीर सपूत भारत मां के वीर सपूत सीने पर गोली झील भारत मां के वीर सपूत सीने पर गोली खेल रहे पर जाने कैसे सत्ता लोभी जाने कैसे चालू की शहादत पर भी सियासत खेल रहे पर जाने कैसे सत्ता लोभी शहादत पर भी सियासत खेल रहे

हम बने मौन तमाशा और हम बने मॉम तमाशा देख रहे स्टेटस लगाकर कैंडल लगाकर स्टेटस लगा कर कैंडल जलाकर जाने किस को सांत्वना दे रहे हैं

यूं तो सोने की चिड़िया कहलाने का गौरव हमको प्राप्त है जो दो सोने की चिड़िया कहलाने का गौरव हमारे पास है,desh bhakti shayari,

अक्षरों में लिखा हमारा इतिहास बड़े अक्षरों में लिखा हमारा इतिहास है विश्व गुरु कहलाने की सोच हमने पाई है विश्व गुरु कहलाने कि हमने पाई है पर क्या सबको यहां रोटी मिल पाई पर क्यों सबको यहां रोटी मिल पाई है,,desh bhakti shayari,

कहने को तो हम आजाद हैं कहने को तो हम आजाद हैं लगता है आजादी के मायने से अब तक भी अनजान है

Advertisements